Sunday, September 19, 2010

प्रतिध्वनि

किसी आश्वस्त घाटी में कभी आवाज यदि गूँजे
समझना यह तुम्हारी ही प्रतिध्वनि लौट कर आयी ।
यही आवाज जिसकी धार धड़कन तक पहुँचती है
उसी का वेग, पत्ते-सी हिली जो आज परछाईं ।

हमेशा याद के कोमल गलीचों पर धमकती है
किसी तलवार से है चीर देती रोज तनहाई
बड़े भारी कदम इसके, हृदय पर पड़ रहे हैं रे !
कि इसकी चोट से बह पीर आँखों से निकल आई ।

हमारी प्यास से क्यों होंठ धरती के फ़टे जाते
हमारी भूल की कैसे भला उसने सज़ा पाई ?
बड़ा निर्वात है रे आज भीतर के अहाते में !
बहा कर ले गये हो तुम न जाने कहाँ पुरवाई ।

बिछा कर नींद सोते थे हम अपनी आँख के नीचे
न जाने किरकिरी कैसी फ़िसलकर आँख में आई ,
तुम्हारे चैन के आगे कहीं पत्थर पड़ा होगा
तभी आवाज़ अपनी लौटकर वापस चली आई ।

1 comments:

हरकीरत ' हीर' June 8, 2011 at 9:35 PM  

आद आलोक जी ,
क्षणिकाएं ढूँढती हुई यहाँ तक पहुँच गई ....
आपकी क्षणिकाएं पढ़ी अच्छी लगीं .....
मैं 'सरस्वती सुमन' पत्रिका के एक अंक की अतिथि संपादिका हूँ जो क्षणिका विशेषांक होगा .....
आपसे गुजारिश है अपनी आठ ,दस बेहतरीन क्षणिकाएं अपने संक्षिप्त परिचय व तस्वीर के साथ मेल कर दें ...

harkirathaqeer@gmail.com

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP