Wednesday, November 21, 2007

मै / तुम

1>
हम दोनों ही
बड़ा बनना चाहते थे-
तुम्हें
उनकी नजरों में बड़ा दिखना था,
मुझे
मेरी नजरों में ।

2>
दोनों को ईश्वर नहीं मिला ,
तुम्हें वो नहीं मिला,
मुझे तुम ।

3>
जीवन भर ,
मैनें अपनी पहचान ढूँढी,
फ़िर -
मुझे तुम मिले ।

1 comments:

बाल किशन November 22, 2007 at 5:27 AM  

अद्भुत रिश्ता है.

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP